Sign In

Not Registered? Sign up now



Enter the text you see above:

Forget Password?

RCM Business

Marketing Plan.

Marketing Plan

M/S Fashion Suitings Pvt. Ltd. (FSPL) is marketing its consumer products under Direct Selling System. Each individual associates himself with the company and purchases the goods directly from company. The customer pays the price and is given certain discount. In the system, an opportunity is given to interested persons to make the purchases as per the plan of the company by helping others as the benefits of all are interrelated. Consumer takes decision to buy product(s) not due to big advertisement but due to the quality of the product(s) and/or by the opinion and satisfaction of other consumers who are using the product(s). After using the products and feeling satisfied with quality and concept, user share his views with others and thus the group expands day by day. Company does not require any advertisement, any marketing agent, any area distributor or retailer for selling the products. Company saves lot of amount and distributes it to Associate Buyers as per the plan.

A perusal of the above would show that the whole marketing system is based not on any positive advertisement, but on creating an acceptability and awareness amongst the society, by actual use of the products by some members of the society and deriving satisfaction out of the same. For example, if “A” purchases a product from FSPL and feels satisfied with quality and usefulness of the same, he is expected to tell this to others, so that others would also follow his example and purchase the product. However, it may be noted that “A” is not under any obligation to do so. The sales pattern adopted by FSPL is such that it encourages people to propose further in their group and each one’s related group expands.

In context to this, the persons may be interested in sharing their view about the product with others, FSPL has devised method by which it is identified that some people have purchased the goods due to sharing of the views about the goods by “A” then “A” gets incentive/discount. Thus, in this way, group for making the purchases is formed on its own.

A person who desires to avail the incentive on purchase as per defined methodology framed by the company, has to get himself registered as an Associate Buyer with the FSPL and follow other procedures laid down as under: -

Proposer

i. Proposer: Associate Buyer who promotes any individual to become Associate Buyer in his/her group is termed as a Proposer.

Sponsor

i. Sponsor: Associate Buyer, under whom new individual is joining, is termed as a sponsor.

Group of Associate Buyer

i. Group of Associate Buyer: All Associate Buyers under the particular Associate Buyer who being promoted by him/her and/or promoted by his group’s other Associate Buyers shall be termed as Particular Associate Buyer’s Group.

APPLICATION

To become Associate Buyer:-

The person interested to become Associate Buyer is required to apply online by the application form available on the company's website. The necessary details of the applicant, sponsor and proposer are to be filled in the Form. In addition, the original scan copy of the applicant's photo, identity card, address proof and bank account details have to be uploaded.

The terms and conditions given with the application are to be read and accepted. After that an OTP comes in the mobile number given in the application. After the OTP is entered, the application is received by the company.

List of the documents to be uploaded along with application form for becoming an Associate Buyer are as under:-

i. A colorful photo passport size

  1. One of the following documents for certification of Photo ID
    1. Aadhaar Card (Both Side)
    2. Passport (Valid)
    3. PAN Card
    4. Voter’s Identity Card
    5. Driving License (Valid)
    6. Written confirmation from the banks certifying identity proof
    7. Domicile certificate with communication address and photograph
    8. Central/State Government certified ID proof
    9. Certification from any of the Authorities mentioned below:
      • Panchayat Pradhan
      • Councilor
      • Sarpanch of Gram Panchayat
  2. Self attested Photocopy of any of following documents for address proof:-
    1. Aadhaar Card (Both Side)
    2. Telephone bill not older than 3 months
    3. Bank account statement not older than 3 months(Attested by Bank)
    4. Electricity bill not older than 3 months
    5. Ration card
    6. Passport (Valid)
    7. Driving License (Valid)
    8. Voter’s Identity Card
    9. Written confirmation from the banks (Attested by Bank)
    10. Lease agreement along with rent receipt not older than 3 months
    11. Current employer’s certificate mentioning residence
    12. Domicile certificate with communication address and photograph
    13. Central/State Government certified Address proof.

Please note that expired passport cannot be used as address proof, it can be accepted as ID proof.

  1. Cancelled original signed cheque which has the name printed of the account holder or original Bank statement issued and attested by bank for the proof of Bank Account Number.

There is no charge/fee for registration as an Associate Buyer . After the successful submission of application form and documents (It is a sole responsibility of the Applicant to submit valid Documents and Information), a Unique/Track ID Number will be given on website. After acceptance of his/her Application, applicant will receive the permanent ID Number. After receiving the permanent ID Number, the Associate Buyer has to obtain the ID card by login on Website. It is sole company’s discretion to register the new applicant as Associate Buyer.

One Associate Buyer can propose / sponsor as many persons as he/she desires.

Please note that there is no consideration for proposing / sponsoring to become Associate Buyer to Proposer / Sponsor.

The Company shall be at liberty to accept or reject the application at its sole discretion without assigning any reason whatsoever.

The step of Allotment of password and Unique ID for the applicant by the company shall be construed as the registration of Associate Buyer. This registration shall come into effect only after the acceptance by the company by way of issuance of Password and Unique ID.

INCENTIVE ON PURCHASES

a. Incentive is calculated on purchase volume of a product. Purchase volume maybe equivalent to selling price or different as may be declared by the company from time to time. It can be seen on company’s website

b. Main Group and other Group (Groups of Associate Buyer under a Particular Proposer / Sponsor)

The Group with highest Purchase Volume is called main Group of Associate Buyer. All the Groups other than main Group are called other Group/Groups of Associate Buyer. Main Group may be different in different months.

c. Eligibility & Calculation of Purchase Incentive: -

Since Purchase Incentive is totally based on individual purchase volume of Associate Buyer therefore Associate Buyer shall become eligible for Purchase Incentive only if his/her minimum purchase of RCM Products is Rs.100 on accrual basis in the relevant month.

Net Incentive of a particular Associate Buyer is calculated by deducting aggregate Purchase Incentive of his/her group/groups Associate Buyer from whole aggregate Purchase Incentive. This can be termed as calculation on difference basis. The Incentive of the Associate Buyer who becomes disqualified for any reason for Incentive, shall not be excluded for calculation of Incentive payable to other Associate Buyers on difference basis.

Incentive is calculated on a fixed percentage based on monthly purchase volume made by Associate Buyers and their groups on differential basis as follows:

i. Basic Purchase Incentive Rates

ii. Royalty Bonus Rates : -

Note:

  1. Associate buyer becomes eligible for Royalty Bonus only if his/her minimum purchase of RCM product is not less than 1500 Purchase Volume on accrual basis in the relevant month.
  2. Royalty is calculated on difference basis by deducting Royalty of sponsored group/groups from total Royalty.
  3. Royalty is calculated on monthly basis.
  4. When Purchase Volume of Associate Buyer’s any group exceeds 3,50,000 and Purchase Volume of remaining group is not less than 1,15,000 then all groups except other group/groups who achieved the target of Purchase Volume of 3,50,000 or above shall be eligible for Royalty.

iii. Technical Bonus Rates:-

Note:

  1. Associate Buyer becomes eligible for Technical Bonus only if his/her minimum purchase of RCM product is not less than 1500 Purchase Volume on accrual basis in the relevant month.
  2. Technical Bonus is calculated on difference basis by deducting Technical Bonus of sponsored group/groups from total Technical Bonus.
  3. Technical Bonus is calculated on monthly basis.
  4. Associate Buyer, who achieves 8 % Royalty for consecutive 3 months, shall be entitled for Technical Bonus.
  5. When Purchase Volume of Associate Buyer’s any group exceeds 5,00,000 and Purchase Volume of remaining group is not less than 5,00,000 then all groups except other group/groups who achieved the target of Purchase Volume of 5,00,000 or above shall be eligible for Technical Bonus.

INCENTIVE PAYMENT DURATION, MODE OF PAYMENT ETC.

a. All the above incentive for each Associate Buyer is calculated on the basis of the total purchases made by themselves and their groups’ Associate Buyer monthly from 1stDay of every month and Last Day of that month. (Both Days are inclusive)

b. Except for abnormal reason, calculation of Purchase Incentive shall be completed within 40 days from the last day of the month, for which Incentive is to be calculated.

c. The amount of Purchase Incentive is remitted within 90 days from the date of calculation of the Incentive.

d. Payment of Incentive shall be made by anyone mode of Banking System (NEFT/RTGS/INTER BANKING TRANSFER). For this, it is mandatory to give correct bank account number and IFSC detail by Associate Buyer.

e. If Associate Buyer does not receive Incentive payout due to Non-compliance of rules or due to any other reason occurred by Associate Buyer, then complete responsibility for delay/ Non-payment will be of Associate Buyer.

मार्केटिंग प्लान

मेसर्स फैशन सूटिंग्स प्रा. लिमिटेड (एफएसपीएल) डायरेक्ट सेलिंग सिस्टम के तहत अपने उपभोक्ता उत्पादों की मार्केटिंग कर रही है। प्रत्येक व्यक्ति खुद को कंपनी से एसोसिएट करता है और सीधे कंपनी से सामान खरीदता है। ग्राहक कीमत चुकाता है और उसे कुछ छूट दी जाती है। इस प्रणाली में, इच्छुक व्यक्तियों को दूसरों की मदद करके कंपनी की योजना के अनुसार खरीदारी करने का अवसर दिया जाता है क्योंकि सभी के लाभ परस्पर जुड़े हुए हैं। उपभोक्ता उत्पाद /उत्पादों को खरीदने का निर्णय बड़े विज्ञापन के कारण नहीं बल्कि उत्पाद / उत्पादों की गुणवत्ता और/या उत्पाद का उपयोग करने वाले अन्य उपभोक्ताओं की राय और संतुष्टि के कारण करता है। उत्पादों का उपयोग करने और गुणवत्ता और अवधारणा (कांसेप्ट) से संतुष्ट महसूस करने के बाद, उपयोगकर्ता अपने विचार दूसरों के साथ साझा करते हैं और इस प्रकार दिन-ब-दिन समूह बढ़ता जाता है। कंपनी को उत्पादों को बेचने के लिए किसी विज्ञापन, किसी मार्केटिंग एजेंट, किसी क्षेत्र वितरक या रिटेल विक्रेता की आवश्यकता नहीं पड़ती है। इस प्रकार कंपनी बहुत सारी राशि बचाती है और योजना के अनुसार इसे एसोसिएट बायर को वितरित करती है।

उपरोक्त के अवलोकन से पता चलता है कि संपूर्ण मार्केटिंग प्रणाली किसी लुभावने विज्ञापन पर आधारित नहीं है, बल्कि समाज के कुछ सदस्यों द्वारा उत्पादों के वास्तविक उपयोग व संतुष्टि द्वारा उत्पन्न स्वीकार्यता और जागरूकता पैदा करने पर आधारित है। उदाहरण के लिए, यदि "ए" एफएसपीएल से कोई उत्पाद खरीदता है और उसकी गुणवत्ता और उपयोगिता से संतुष्ट महसूस करता है, तो यह उम्मीद की जाती है कि वह इसे दूसरों को बताए, ताकि अन्य भी इस उदाहरण का अनुसरण करें और उत्पाद खरीद सकें। हालांकि, यह ध्यान दिये जाने योग्य है कि "ए" ऐसा करने के लिए बाध्य नहीं है। एफएसपीएल द्वारा अपनाया गया बिक्री का तरीका ऐसा है कि यह लोगों को अपने समूह में आगे प्रस्ताव करने के लिए प्रोत्साहित करता है और प्रत्येक के संबंधित समूह का विस्तार होता है।

इस संदर्भ में, व्यक्ति दूसरों के साथ उत्पाद के बारे में अपने विचार साझा करने में रुचि ले सकते हैं, एफएसपीएल ने ऐसी विधि तैयार की है जिसके द्वारा यह पहचाना जाता है कि कुछ लोगों ने "ए" द्वारा उत्पाद के बारे में विचारों को साझा करने के कारण सामान खरीदा है। अत: "ए" को प्रोत्साहन राशि / छूट मिलती है। इस प्रकार, खरीददारी करने के लिए समूह अपने आप बनता है।

एक व्यक्ति जो कंपनी द्वारा तैयार एवं वर्णित पद्धति के अनुसार खरीद पर प्रोत्साहन राशि प्राप्त करना चाहता है, उसे खुद को एफएसपीएल के साथ एक एसोसिएट बायर के रूप में पंजीकृत करवाना होगा और नीचे दी गई अन्य प्रक्रियाओं का पालन करना होगा: -

प्रपोजर (प्रस्तावक)

i. प्रपोजर: एसोसिएट बायर जो किसी व्यक्ति को उसके समूह में एसोसिएट बायर बनने के लिए प्रोत्साहित करता है, प्रपोजर (प्रस्तावक) कहलाता है।

स्पोंसर (प्रायोजक)

i. स्पोंसर: एसोसिएट बायर, जिसके नीचे नया व्यक्ति शामिल हो रहा है, को स्पोंसर (प्रायोजक) कहा जाता है।

एसोसिएट बायर का समूह

i. एसोसिएट बायर का समूह: किसी एसोसिएट बायर के समूह के वे सभी एसोसिएट बायर जिन्हें उसके द्वारा और/या उसके समूह के अन्य एसोसिएट बायर द्वारा प्रस्तावित किया जा रहा है, उन्हें उस विशेष एसोसिएट बायर का समूह कहा जाएगा।

आवेदन पत्र

एसोसिएट बायर बनने के लिए:-

एसोसिएट बायर बनने के इच्छुक व्यक्ति को कंपनी की वेबसाइट पर उपलब्ध आवेदन पत्र द्वारा ऑनलाइन आवेदन करना होता है। फॉर्म में आवेदक, प्रपोजर और स्पोंसर के आवश्यक विवरण भरने होते हैं। साथ ही आवेदक के फोटो, पहचान पत्र, पते के प्रमाण और बैंक खाते के विवरण आदि मूल दस्तावेजों की स्कैन की हुई कॉपी अपलोड करनी होती है ।

आवेदन के साथ दिए गए नियमों और शर्तों को पढ़ना और स्वीकार करना होता है। उसके बाद आवेदन में दिए गए मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आता है। ओटीपी सबमिट करने के बाद कंपनी को आवेदन प्राप्त होता है।

एसोसिएट बायर बनने के लिए आवेदन पत्र के साथ अपलोड किए जाने वाले दस्तावेजों की सूची इस प्रकार है: -

i. एक रंगीन फोटो - पासपोर्ट आकार

  1. फोटो आईडी के प्रमाणीकरण के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों में से एक
    1. आधार कार्ड (दोनों तरफ)
    2. पासपोर्ट (वैध)
    3. पैन कार्ड
    4. मतदाता पहचान पत्र
    5. ड्राइविंग लाइसेंस (वैध)
    6. बैंक द्वारा जारी प्रमाणित फोटो पहचान पत्र
    7. मूल निवास प्रमाण पत्र मय स्थायी पता और फोटो
    8. केंद्र/राज्य सरकार द्वारा प्रमाणित आईडी प्रूफ
    9. नीचे उल्लिखित किसी भी प्राधिकरण से प्रमाण पत्र:
      • पंचायत प्रधान
      • सभासद
      • ग्राम पंचायत के सरपंच
  1. एड्रेस प्रूफ के लिए निम्नलिखित में से किसी भी दस्तावेज की सेल्फ अटेस्टेड फोटोकॉपी:-
    1. आधार कार्ड (दोनों तरफ)
    2. टेलीफोन बिल 3 महीने से पुराना न हो
    3. बैंक खाता विवरण 3 महीने से अधिक पुराना नहीं हो (बैंक द्वारा सत्यापित)
    4. बिजली का बिल 3 महीने से पुराना न हो
    5. राशन कार्ड
    6. पासपोर्ट (वैध)
    7. ड्राइविंग लाइसेंस (वैध)
    8. मतदाता पहचान पत्र
    9. बैंक द्वारा जारी प्रमाणित फोटो पहचान पत्र मय पता
    10. लीज एग्रीमेंट रसीद के साथ (3 महीने से अधिक पुरानी न हो)
    11. वर्तमान नियोक्ता का प्रमाण पत्र निवास का उल्लेख करते हुए
    12. मूलनिवास प्रमाण पत्र मय संचार पता और फोटो
    13. केंद्र/राज्य सरकार द्वारा प्रमाणित पता प्रमाण पत्र

कृपया ध्यान दें कि एक्सपायर्ड पासपोर्ट को एड्रेस प्रूफ के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है, इसे आईडी प्रूफ के रूप में स्वीकार किया जा सकता है।

  1. बैंक खाता संख्या के प्रमाण के लिए रद्द किया गया मूल हस्ताक्षरित चैक जिसमें खाताधारक का नाम छपा हो या बैंक द्वारा जारी मूल और सत्यापित बैंक विवरण हो।

एसोसिएट बायर के रूप में पंजीकरण के लिए कोई शुल्क/फीस नहीं है । आवेदन पत्र और दस्तावेजों को सफलतापूर्वक जमा करने के बाद (वैध दस्तावेज और जानकारी जमा करना पूर्णतया आवेदक की जिम्मेदारी है ), वेबसाइट पर एक यूनिक / ट्रैक आईडी नंबर दिया जाएगा। उसके आवेदन की स्वीकृति के बाद, आवेदक को स्थायी आईडी नंबर प्राप्त होगा। स्थायी आईडी नंबर प्राप्त करने के बाद, एसोसिएट बायर को वेबसाइट पर लॉगिन करके आईडी कार्ड प्राप्त करना होगा। नए आवेदक को एसोसिएट बायर के रूप में पंजीकृत करने या नहीं करने का निर्णय लेने के लिए कंपनी पूर्ण रूप से स्वतंत्र है।

एक एसोसिएट बायर जितने चाहे उतने व्यक्तियों को प्रपोज / स्पोंसर कर सकता है।

कृपया ध्यान दें कि प्रपोजर / स्पोंसर द्वारा एसोसिएट बायर बनने के लिए प्रपोज / स्पोंसर करने पर कोई प्रतिफल नहीं है।

कंपनी बिना कोई कारण बताए अपने विवेकाधिकार से आवेदन को स्वीकार या अस्वीकार करने के लिए स्वतंत्र होगी।

कंपनी द्वारा आवेदक के लिए पासवर्ड और यूनिक आईडी के आवंटन के चरण को एसोसिएट बायर के पंजीकरण के रूप में माना जाएगा। यह पंजीकरण कंपनी द्वारा पासवर्ड और यूनिक आईडी जारी करने की स्वीकृति के बाद ही प्रभावी होगा।

क्रय पर प्रोत्साहन राशि

a. प्रोत्साहन राशि की गणना किसी उत्पाद की परचेज वॉल्यूम (पी. वी. ) पर की जाती है। परचेज वॉल्यूम विक्रय मूल्य के बराबर हो सकती है या कंपनी द्वारा समय-समय पर घोषित की जा सकती है। इसे कंपनी की वेबसाइट पर देखा जा सकता है

b. मुख्य समूह और अन्य समूह (एक प्रपोजर / स्पोंसर के एसोसिएट बायर के समूह)

उच्चतम परचेज वॉल्यूम वाले समूह को एसोसिएट बायर का मुख्य समूह कहा जाता है। मुख्य समूह के अलावा अन्य सभी समूह एसोसिएट बायर के अन्य समूह कहलाते हैं। मुख्य समूह अलग-अलग महीनों में अलग हो सकता है।

c. क्रय प्रोत्साहन राशि की पात्रता और गणना : -

चूंकि क्रय प्रोत्साहन राशि पूरी तरह से एसोसिएट बायर की व्यक्तिगत परचेज वॉल्यूम पर आधारित है, इसलिए एसोसिएट बायर केवल तभी क्रय प्रोत्साहन राशि के पात्र होंगे, जब संबंधित महीने में आरसीएम उत्पादों की कुल खरीद न्यूनतम 100 रुपये हो।

किसी एसोसिएट बायर के शुद्ध प्रोत्साहन राशि की गणना उसके समूह/समूहों के एसोसिएट बायर के क्रय प्रोत्साहन राशि को कुल क्रय प्रोत्साहन राशि में से घटाकर की जाती है। इसे डिफरेंस के आधार पर गणना कहा जाता है। ऐसे एसोसिएट बायर की प्रोत्साहन राशि जो क्रय प्रोत्साहन राशि के लिए किसी भी कारण से अयोग्य हो जाता है, डिफरेंस के आधार पर अन्य एसोसिएट बायर को देय प्रोत्साहन राशि की गणना के लिए छोड़ा नहीं जाएगा।

क्रय प्रोत्साहन राशि की गणना एसोसिएट बायर और उनके समूहों द्वारा डिफरेंस के आधार पर की गई मासिक परचेज वॉल्यूम के आधार पर एक निश्चित प्रतिशत पर की जाती है:

i. बेसिक परचेज इंसेंटिव दरें :

ii. रॉयल्टी बोनस दरें : -

टिप्पणी:

  1. एसोसिएट बायर रॉयल्टी बोनस के लिए तभी पात्र होता है, जब आरसीएम उत्पाद की उसकी कुल खरीद संबंधित महीने में 1500 परचेज वॉल्यूम से कम न हो।
  2. रॉयल्टी की गणना कुल रॉयल्टी से प्रायोजित समूह/समूहों की रॉयल्टी घटाकर डिफरेंस के आधार पर की जाती है।
  3. रॉयल्टी की गणना मासिक आधार पर की जाती है।
  4. जब एसोसिएट बायर के किसी भी समूह की परचेज वॉल्यूम 3,50,000 से अधिक हो और शेष समूह (अन्य समूह ) की परचेज वॉल्यूम 1,15,000 से कम न हो तो 3,50,000 या उससे अधिक की परचेज वॉल्यूम का लक्ष्य हासिल करने वाले सभी समूह (अन्य समूह को छोड़कर ) रॉयल्टी के लिए पात्र होंगे।

iii. टेक्निकल बोनस दरें:-

टिप्पणी:

  1. एसोसिएट बायर टेक्निकल बोनस के लिए तभी पात्र होता है, जब आरसीएम उत्पाद की उसकी संबंधित महीने में कुल खरीद 1500 परचेज वॉल्यूम से कम न हो।
  2. टेक्निकल बोनस की गणना कुल टेक्निकल बोनस से प्रायोजित समूह/समूहों के टेक्निकल बोनस को घटाकर डिफरेंस के आधार पर की जाती है।
  3. टेक्निकल बोनस की गणना मासिक आधार पर की जाती है।
  4. एसोसिएट बायर, जो लगातार 3 महीनों के लिए 8% रॉयल्टी प्राप्त करता है, उसे टेक्निकल बोनस की पात्रता हासिल होगी ।
  5. जब एसोसिएट बायर के किसी भी समूह की परचेज वॉल्यूम 5,00,000 से अधिक है और शेष समूह (अन्य समूह ) की परचेज वॉल्यूम 5,00,000 से कम नहीं है, तो अन्य समूह/समूहों को छोड़कर सभी समूह जिन्होंने 5,00,000 या उससे अधिक की परचेज वॉल्यूम का लक्ष्य हासिल किया है, वे टेक्निकल बोनस के लिए पात्र होंगे ।

क्रय प्रोत्साहन राशि भुगतान अवधि , भुगतान का तरीका आदि :-

a. प्रत्येक एसोसिएट बायर के लिए उपरोक्त सभी क्रय प्रोत्साहन राशि की गणना स्वयं और उसके समूह के एसोसिएट बायर द्वारा हर महीने के पहले दिन और उस महीने के अंतिम दिन तक की गई कुल खरीददारी के आधार पर की जाती है । (दोनों दिन सम्मिलित हैं)

b. असामान्य कारणों को छोड़कर, क्रय प्रोत्साहन राशि की गणना महीने (जिस माह के लिए प्रोत्साहन राशि की गणना की जानी है) के अंतिम दिन से 40 दिनों के भीतर पूरी की जाएगी |

c. क्रय प्रोत्साहन राशि की गणना की तारीख से 90 दिनों के भीतर क्रय प्रोत्साहन राशि प्रेषित की जाती है।

d. प्रोत्साहन राशि का भुगतान बैंकिंग प्रणाली (एनईएफटी/आरटीजीएस/इंटर बैंकिंग ट्रांसफर ) के किसी भी माध्यम से किया जाएगा। इसके लिए एसोसिएट बायर द्वारा सही बैंक खाता संख्या और IFSC विवरण देना अनिवार्य है।

e. यदि एसोसिएट बायर को नियमों का पालन न करने या एसोसिएट बायर द्वारा किसी अन्य कारण से क्रय प्रोत्साहन राशि का भुगतान प्राप्त नहीं होता है, तो देरी / भुगतान न होने की पूरी जिम्मेदारी एसोसिएट बायर की होगी।

We're Dedicated to Our Customers

Customer Service - Call : +91 01482 352000 | Email : info@rcmbusiness.com

Download RCM Business App